हेलो, आज की इस पोस्ट में हम आपके साथ स्वार्थी मित्र कहानी शेयर करने जा रहे है। दोस्तों स्वार्थी मित्र कहानी दो दोस्तों की कहानी है जिसमे से एक दोस्त अपनी जान बचानी के लिए पेड़ पर चढ़ जाता है और दूसरे दोस्त की परवाह नहीं करता। दोस्तों हमें ऐसे दोस्तों से बच कर रहना चाहिए। उम्मीद है आपको यह कहानी अच्छी लगेगी।

स्वार्थी मित्र

स्वार्थी मित्र | Panchatantra Stories in Hindi

एक समय की बात है। दो मित्र रोहन और सोहन अपने छुट्टियों में एक गाँव से गुज़र रहे थे। गाँव से गुज़रने से पहले एक जंगल को पार करना होता था। जंगल में कई प्रकार के जानवरों का निवास होता था।

दोनों मित्र बात करते करते जा रहे थे। तभी उनके सामने एक भालू आ गया। वह धीरे- धीरे उनके करीब आ रहा था। तभी रोहन डर के मारे ऊँचे पेड़ पर चढ़ गया। सोहन को पेड़ पर चढ़ना नहीं आता था। उसने अपने मित्र को बहुत आवाज़ लगाईं -"मित्र! मित्र! मेरी मदद करो।" पर रोहन ने सोहन की मदद न की। फिर तभी सोहन को याद आया कि उसने कक्षा में पढ़ा था कि भालू जैसे जानवर मरे हुए को नहीं खाते हैं। 

फिर सोहन बेहोश होकर और अपने सांसों को रोककर मरने का नाटक करने लगा। भालू आया और उसके कान के पास जाकर चला गया। रोहन नीचे आया और सोहन से पूछा-" वह तुमसे क्या कह रहा था?" सोहन ने बोला -" उसने मुझसे कहा कि तुम्हारे जैसे दोस्तों से दूरी बनाए रखने में ही समझदारी है।

शिक्षा - स्वार्थी लोगों से दूरी बनाए रखनी चाहिए।

दोस्तों उम्मीद है कि आपको हमारे दुबारा शेयर की स्वार्थी मित्र कहानी पसंद आयी होगी। अगर आपको हमारी यह पोस्ट पसंद आयी है तो आप इससे अपने Friends के साथ शेयर जरूर करे। दोस्तों अगर आपको हमारी यह साइट StoryLiterature.Com पसंद आयी है तो आप इसे bookmark भी कर ले।

Post a Comment

Previous Post Next Post